Homesoftware

Trial version software को full version software में बदलने का तरीका

Trial version software को full version software में बदलने का तरीका
Like Tweet Pin it Share Share Email

Crack करे किसी भी trial version software को

कई बार हमें किसी ख़ास software की ज़रूरत होती है और हमें उसका फ्री वर्सन download के लिए नहीं मिलता है और फिर मज़बूरी में हमें उस software का trial version download कर के काम चलाना पड़ता है ! trial version software को इस्तेमाल(use) करने की एक निश्चित अवधी या दिन होता है ! यानी की आप किसी trial version software को हमेशा इस्तेमाल(use) नहीं कर सकते हैं कुछ दिनों के बाद ये सॉफ्टवेयर(software) लॉक(lock) हो जाते हैं !

Trial version software क्या होता है ?

paid software को चला के ,इस्तेमाल(use) कर के देखने के लिए सॉफ्टवेयर(software) बनाने वाली कम्पनी अपने user को कुछ दिनों के लिए फ्री(free) में उपलब्ध कराती है ऐसे सॉफ्टवेयर(software) को ट्रायल वर्शन सॉफ्टवेयर कहा जाता है ! ट्रायल वर्शन सॉफ्टवेयर को जब आप अपने computer में install करते हैं तो ये सॉफ्टवेयर(software) computer के systems registry में कुछ डिटेल्स जैसे की installation date time आदि सेव(save) कर देता है और जब आप ट्रायल वर्शन सॉफ्टवेयर को रन(run) करते हैं तो ये computer के करेंट date और time को save किये गये date और time से compare करता है और इसके कारण एक निश्चित अवधी या दिनों के बाद आप उस trial version software को चला नहीं सकते है और वो सॉफ्टवेयर(software) आगे के लिए आप के कंप्यूटर(computer) पर ब्लाक(block) हो जाता है ! मान लीजिये की आप ने कोई ट्रायल वर्शन सॉफ्टवेयर download किया है जिसका trial पीरियड 10 दिन का है यानी के जब आप ट्रायल वर्शन सॉफ्टवेयर को ओपन करेंगे तो उसके 10 दिन बाद वो अपने आप ब्लाक(block) हो जायेगा और आप उस trial version software का भी इस्तेमाल(use) नहीं कर सकते हैं ! दुबारा इस्तेमाल करने के लिए आप को कुछ रुपये खर्च कर के उस सॉफ्टवेयर(software) को खरीदना पड़ेगा ! अगर आप दुबारा उस सॉफ्टवेयर(software) को अपने कंप्यूटर(computer) पर चलाना चाहें तो आप को उसका लाईसेंस की(license key) खरीदना पड़ेगा या फिर trial version mode में चलाने के लिए अपने computer के opreting system को दुबारा इंस्टाल(install) करना पड़ेगा जो की बहुत मुश्किल और गैर ज़रूरी काम है !

Trial version software को full version software में बदलने का तरीका

किसी भी trial version software को पूरी तरह से full version software में बदला जा सकता है ! एक तरीका है जिसके द्वारा आप किसी भी ट्रायल वर्शन सॉफ्टवेयर को हमेशा अपने कंप्यूटर(computer) में इस्तेमाल(use) कर सकते हैं वो भी बिना “लाईसेंस की”(license key) के !
सबसे पहले आप RunAsDate Software को अपने कंप्यूटर(computer) में डाउनलोड(download) कर के install कर लें ! अब आपको जो भीट्रायल वर्शन सॉफ्टवेयर को crack करना है उसे RunAsDate Software मे open करे! अब आपको जितने time तक trial version software को use करना है उतना time और date सेट कर दे ! यानी के हर बार आप को उसमे एक ही time और date डालना है !

cyber cafe के computer का सुरक्षित तरीके से उपयोग कैसे करें ?


Author: Tech2Hindi

Comments (2)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *